रविवार, 3 जनवरी 2010

एक फूल

कार्यालय में नए अधिकारी कार्यभार ग्रहण कर चुके थे । पहली तारीख थी और वह भी नव वर्ष का अवसर । सारे कर्मचारी एक - एक करके उन्‍हें शुभकामनाएं देने पहुंच रहे थे । कोई गुलदस्ता लेकर , कोई कार्ड लेकर तो कोई खाली हाथ साहब के कमरे में घुसता और थोडी देर बाद मुस्कुराता हुआ चेहरा लेकर बाहर आ रहा था ।

सभी बाहर आकर यह बताने में व्यस्त थे कि साहब ने मुझे बैठने के लिए कहा , चाय के लिए पूछा और खड़े होकर हाथ भी मिलाया । अब केवल श्यामलाल जी और रमेश बचे थे ।

श्यामलाल जी मौका देखते ही अंदर पहुंचे । साहब को गुलदस्ता भेंट किया । साहब ने खड़े होकर उनसे हाथ मिलाया । चाय की पेशकश को श्यामलाल जी ठुकरा न पाए । बाहर आकर उन्होंने यह किस्सा हर्ष के साथ सबको बताया भी ।

रमेश को नौकरी पर लगे दो साल हो चुके थे । वह कार्यालय का एकमात्र चपरासी था । इसलिए उसे गप मारने का कम समय मिलता था। उसे अपने काम में व्यस्त रहना अच्छा लगता था । शाम हो चुकी थी । साहब घर लौटने की तैयारी कर रहे थे । सभी कर्मचारी कतार में हाथ जोड़े खड़े थे । साहब ने बाहर निकलते ही रमेश को देखा । वह भी हाथ जोड़े खड़ा था । साहब ने उसे विश किया , उससे स्वयं हाथ मिलाया। रमेश की आंखें नम हो गई । साहब के हाथ में एक फूल था। वे उसे रमेश की शर्ट में लगाते हुए लिफ्ट की ओर चल पड़े ।

०००००००००००

आप सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ।

000000000000000000000000000000








12 टिप्‍पणियां:

  1. नए साल में किसी को खुश करना ही सबसे अच्छा तरीका है नए साल क आग़ाज़ का...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शमीम जी अच्छी लघु कथा....
    ...... नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनायें.....!
    ईश्वर से कामना है कि यह वर्ष आपके सुख और समृद्धि को और ऊँचाई प्रदान करे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ..... नव वर्ष 2010 की हार्दिक शुभकामनायें.....!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी लघुकथा। काम करने वालों की हमेशा क़द्र होती है और उन्हें अपने अधिकारियों की चाटुकारिता करने की जटरूरत नहीं होती।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छा बॉस मिल गया बन्दे को।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना । आभार
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. BOSS milna aour vo bhi achcha..??? yaani SVAPN saakar hona he..., kher..achhi rachna

    उत्तर देंहटाएं